What is CD4 Count in HIV ?HIV Treatment In Hindi

What is CD4 Count in HIV ?HIV Treatment In Hindi

29 April 2022
Views: 59
Id: 7071
  • Report
    Report This Listing
    Login Required
  • Download
  • Print
  • Bookmark
  • Share
    Share This Listing
Media
Description:

यदि आप HIV से ग्रसित है तो आप कैसे  HIV होने के साथ भी आप एक स्वस्थ्य व् सामान्य जीवन कैसे जी सकते है

 

HIV   क्या है

एचआईवी (ह्यूमन इम्युनोडेफिशिएंसी वायरस) एक वायरस है जो प्रतिरक्षा प्रणाली पर हमला करता है। (प्रतिरक्षा प्रणाली किसी व्यक्ति के शरीर में संक्रमण और बीमारियों से लड़ती है।) समय के साथ,

एचआईवी एक व्यक्ति की प्रतिरक्षा प्रणाली को कमजोर करता है इसलिए उसे बीमारियों से लड़ने में बहुत मुश्किल होती है। एचआईवी एड्स (एक्वायर्ड इम्यून डेफिसिएंसी सिंड्रोम) का कारण बनता है।

 

HIV   होने के क्या कारण  है

एचआईवी एक वायरस के कारण होता है। यह यौन संपर्क, अवैध इंजेक्शन दवा के उपयोग या सुइयों को साझा करने, संक्रमित रक्त के संपर्क में आने से फैल सकता है।

या गर्भावस्था, प्रसव या स्तनपान के दौरान मां से बच्चे तक। एचआईवी सीडी4 टी कोशिकाओं को नष्ट कर देता है - सफेद रक्त कोशिकाएं जो एक बड़ी भूमिका निभाती हैं | आपके शरीर को बीमारी से लड़ने में मदद करने के लिए

HIV   के मुख्य घटक   क्या है   -   एचआईवी (ह्यूमन इम्युनोडेफिशिएंसी वायरस)   आपकी रोग प्रतिधोक क्षमता को काम कर देता है अतः यह आपकी स्वेत रक्त कणिकाएं को कमजोर व् नष्ट कर देता है रोग प्रतिरोधक क्षमता में CD 4 cell   का मुख्य रूप के कार्य रहता है | यह स्वेत रक्त कणिकाएं के ऊपरी   परत पर होता है

एचआईवी के लिए उपचार के विकल्प

वायरल लोड की परवाह किए बिना एचआईवी के निदान के बाद उपचार जल्द से जल्द शुरू होना चाहिए।

 

एचआईवी के लिए मुख्य उपचार एंटीरेट्रोवाइरल थेरेपी है, जो दैनिक दवाओं का एक संयोजन है जो वायरस को प्रजनन करने से रोकता है। यह सीडी 4 कोशिकाओं की रक्षा करने में मदद करता है, रोग के खिलाफ उपाय करने के लिए प्रतिरक्षा प्रणाली को पर्याप्त मजबूत रखता है।

 

एंटीरेट्रोवाइरल थेरेपी एचआईवी को एड्स की ओर बढ़ने से रोकने में मदद करती है। यह दूसरों को एचआईवी संचारित करने के जोखिम को कम करने में भी मदद करता है।

 

जब उपचार प्रभावी होता है, तो वायरल लोड "अज्ञात" होगा। व्यक्ति को अभी भी एचआईवी है, लेकिन परीक्षण के परिणामों में वायरस दिखाई नहीं दे रहा है।

 

हालांकि, वायरस अभी भी शरीर में है। और अगर वह व्यक्ति एंटीरेट्रोवाइरल थेरेपी लेना बंद कर देता है, तो वायरल लोड फिर से बढ़ जाएगा, और एचआईवी फिर से सीडी 4 कोशिकाओं पर हमला करना शुरू कर सकता है।

 

CD 4 cell   क्या है और इसका सामान्य रेंज कितनी होनी चाहिए

सीडी 4 टेस्ट को “टी सेल टेस्ट” (T cell test) भी कहा जाता है। इस टेस्ट में लिम्फोसाइट नामक एक विशेष प्रकार की रक्त कोशिका की जांच की जाती है। सीडी 4 टेस्ट की मदद से शरीर में मौजूद कुल सीडी 4 कोशिकाओं की गिनती नहीं की जा सकती, लेकिन खून के सेंपल में मौजूद सीडी 4 कोशिकाओं की संख्या का पता लगाया जा सकता है। जिससे यह पता चल जाता है कि एचआईवी किस स्टेज पर है और उससे क्या परिणाम हो सकते हैं। यह टेस्ट बहुत जरूरी होता है, क्योंकि यह प्रतिरक्षा प्रणाली की सही स्थिति को प्रदर्शित करता है।

जब कोई भी व्यक्ति एड्स का शिकार होता है तो ऐसी स्थिति में CD 4 सेल्स (सीडी 4) सेल्स की संख्या घट जाती है। सीडी 4 काउंट हमारे इम्यून सिस्टम की क्षमता को दर्शाता है। ऐसे में CD 4 टेस्ट की मदद ली जाती है। इस टेस्ट की मदद से पता लगाया जाता है कि एड्स पीड़ित व्यक्ति का इम्यून सिस्टम किस हद तक खराब हो चुका है। क्योंकि ऐसा होने पर उसे मामूली से मामूली संक्रमण भी आसानी से घेरने लग जाते हैं। अगर जांच में मरीज की टी–सेल्स में गिरावट दिखाई देती है, तो तत्काल इम्यून बूस्टर दिए जाते हैं। CD 4 टेस्ट शरीर में CD 4 सेल्स की जानकारी देने में सक्षम होता है।

जिस व्यक्ति को एचआईवी नहीं है उसकी सीडी4 सेल की संख्या 500 और 1500 के बीच कुछ भी हो सकती है। एचआईवी के साथ रहने वाले लोग जिनकी सीडी 4 की संख्या 500 से अधिक है, वे आमतौर पर हैं

काफी अच्छे स्वास्थ्य में। एचआईवी के साथ रहने वाले लोग जिनकी सीडी 4 सेल की संख्या 200 से कम है, उनमें गंभीर बीमारियों के विकसित होने का खतरा अधिक होता है।

 

क्या कम सीडी4 काउंट का मतलब एचआईवी है?

प्रमुख बिंदु। कम सीडी 4 काउंट का मतलब है कि एचआईवी ने आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को कमजोर कर दिया है और आपको बीमार कर सकता है। एचआईवी उपचार आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करेगा और बढ़ाएगा

आपका जीवन। जबकि आपकी सीडी4 की संख्या कम है, आपको संक्रमण को रोकने के लिए एंटीबायोटिक लेने की भी आवश्यकता हो सकती है

 

एचआईवी के लक्षण:

1.बुखार

  1. ठंड लगना

3.राशी

4.रात का पसीना

5.मांसपेशियों में दर्द

  1. गले में खराश
  2. थकान

8.सूजन लिम्फ नोड्स

 

HIV  आहार क्या लें

एड्स (AIDS) जैसी खतरनाक बीमारी से बचने के लिए हमें कई तरह की सावधानियां बरतनी होती हैं, जिनमें से एक हमारी डाइट (Diet) भी है. एचआईवी (HIV) से पीड़ित लोगों के लिए कोई खास डाइट प्लान (Diet Plan) तो नहीं है लेकिन, एक हेल्दी डाइट आपके काफी हद तक मददगार हो सकती है. एचआईवी आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली (Immune System) को कमजोर करता है. आपका शरीर कीटाणुओं से लड़ने के लिए जरूरी पावर को पोषक तत्वों से लेता है, हेल्दी खाने से आपको संक्रमण (Infection) से लड़ने में मदद मिल सकती है. यह आपकी ऊर्जा को भी बढ़ाने में मदद कर सकता है, आपको मजबूत बनाए रख सकता है, इम्यूनिटी (Immunity) आपको स्वास्थ्य संबंधी जटिलताओं से बचने में मदद कर सकती है, और एचआईवी और इसके प्रभावों को कम करने में मदद कर सकती है. ऐसे में जरूरी हो जाता है कि हम इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए एक हेल्दी डाइट चुनें.

  1. फल और सब्जियों का करें सेवन - फल और सब्जियां खूब खाएं. इनमें एंटीऑक्सिडेंट भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं, जो आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को बेहतर बनाने में मदद करते हैं. आप जब भी खाना खाते हैं अपने खाने के साथ फलों और सब्जियों को ज्यादा मात्रा में लें. विटामिन और मिनरल लेने के लिए अलग-अलग तरह के फल और सब्जियों को डाइट में शामिल करें.
  2. . प्रोटीन को डाइट में करें सेवन – दुबले पतले शरीर के लिए प्रोटीन को डाइट में शामिल करें. क्योंकि प्रोटीन शरीर की मांसपेशियों और इम्यून सिस्टम को बेहतर करने में मददगार हो सकता है. हेल्दी बीफ, पोल्ट्री, मछली, अंडे, बीन्स और नट्स को डाइट में शामिल करना चाहिए.
  3. साबुत अनाज को खाएं - साबुत अनाज को डाइट में लें. जैसे कार के गैस जरूरी है उसी तरह साबुत अनाज आपके शरीर के लिए काम करते हैं. कार्ब्स आपके शरीर को ऊर्जा देते हैं. भूरे चावल और गेहूं की रोटी को खाएं. यह ऊर्जा बढ़ाने वाले विटामिन और फाइबर से भरे होते हैं. जब आप भरपूर मात्रा में फाइबर खाते लेते हैं तो यह वसा के जमा होने की संभावना को कम कर सकते हैं, जिसे लिपोडिस्ट्रोफी कहा जाता है.
  4. चीनी और नमक कम खाएं - अपने खाने में चीनी और नमक की मात्रा को कम करें. एचआईवी आपके हृदय रोग होने की संभावना को बढ़ाता है. बहुत अधिक चीनी और नमक आपके लिए नुकसानदायक हो सकता है. इसलिए रोजाना चीनी के साथ 10% से कम कैलोरी लेने का लक्ष्य रखें. आपके रोजाना 2,300 मिलीग्राम से अधिक सोडियम का सेवन भी घातक हो सकता है.
  5. . वसा का रखें ध्यान - वसा शरीर को ऊर्जा प्रदान करती है, लेकिन यह कैलोरी में भी उच्च है. अगर आप वजन बढ़ाने की कोशिश नहीं कर रहे हैं, तो वसा के सेवन को कम करें. दिल को स्वस्थ रखने के लिए नट्स, वनस्पति तेल और एवोकैडो को डाइट में शामिल करें.

इसके लिए अपनी डाइट में फ्रेश चिकन, मछली, अंडे, फलीदार सब्जियां और बादाम को शामिल करें. साबुत अनाज- कार्ब्स से आपकी बॉडी को एनर्जी मिलती है. इसके लिए आपको ब्राउन राइस या गेहूं की रोटी खानी चाहिए. साबुत अनाज में विटामिन-बी के अलावा फाइबर भी होता है, जो शरीर में फैट बढ़ने की समस्या (लिपोडिस्ट्रॉफी) को रोकता है.

 

खूब पानी पिएं

बीमारी होने पर अक्सर लोगों को प्यास नहीं लगती है. लेकिन एचआईवी जैसी घातक बीमारी में शरीर को रोजाना 8-10 कप पानी या किसी दूसरे लिक्विड की जरूर होती है. ये पानी शरीर से पोषक तत्वों को अपना काम करने और दवाओं को फ्लश करने का काम करता है. साथ ही बॉडी को डीहाइड्रेट होने से बचाता है और एनर्जी लेवल भी बढ़ाता है.

 

कोई भी एचआईवी समस्या  होने पर हमें 9136363692 पर कॉल करें

 

Safe Hands Multispecialty STD Clinic ( Dr. Vinod Raina ) Is Well Known Clinic In Delhi NCR Dr. Vinod Raina Is Retried from Safdarjung Hospital In Delhi His Experience in Sexual Disease

Way To Connect Doctor Vinod Raina   

To Consult with Dr. Vinod Raina, you can contact him on WhatsApp on his number 9871605858. You can also get an appointment on our official website:

https://www.pepforhivtreatment.com/

Call us - 7687878787, 9871605858

और जानकारी के लिए हमारी वीडियो देखें

https://youtu.be/YQcEHvdD9oM

 

Contact Information
Categories:      
Phone: +919136363692
Address: E-34 Ekta Apartment, Saket, Near Malviya Nagar Metro Station., New Delhi, 110017, New Delhi India, 1500
E-34 Ekta Apartment, Saket, Near Malviya Nagar Metro Station., New Delhi, 110017, New Delhi India, 1500

Post New Review

Related Listings
Shedule a Test Drive
[dhvc_form id="2578"]
Apply For TradeIn With Us
[dhvc_form id="2578"]
Send Your Offer
Send Message